गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी | * Gujarat *

आज हम आपको गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ( Gujarat Death Certificate ) के बारे में बताने जा रहे हैं. भारतीय कानून के अनुसार कोई भी मृत्यु होने के 21 दिनों के भीतर संबंधित राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत्र में पंजीकरण करना अनिवार्य है. इसके लिए हर राज्य की सरकार ने केन्‍द्र में महापंजीयक, भारत के पास और राज्‍यों में मुख्‍य पंजीयकों के पास गांवों में जिला पंजीयकों द्वारा चलाने जाने वाले और नगरों के पंजीयक परिसर में मृत्‍यु का पंजीकरण करने के लिए सुपारिभाषित प्रणाली की व्‍यवस्‍था की है. क्या है गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ? और क्या है इसकी उपयोगिता और लाभ ?

What is Gujarat Death Certificate ?

  1. मृत्‍यु प्रमाण पत्र एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है जिसे राज्य सरकार द्वारा मृत व्‍यक्ति के रिश्‍तेदारों को दिया जाता है, Death Certificate में व्यक्ति की मृत्‍यु का तारीक तथ्‍य और मृत्‍यु के कारण का विवरण होता है. मृत्‍यु का समय और तारीख का प्रमाण देने, व्‍यष्टि को सामाजिक, न्‍यायिक और सरकारी बाध्‍यताओं से मुक्‍त करने के लिए, मृत्‍यु के तथ्‍य को प्रमाणित करने के लिए सम्‍पत्ति संबंधी धरोहर के विवादों का निपटारा करने के लिए और परिवार को बीमा एवं कोई सरकारी लाभ जमा करने के लिए प्राधिकृत करने के लिए मृत्‍यु का पंजीकरण करना अनिवार्य है.
  2. पहले हमें इस प्रकार की कोई भी जानकारी लेनी होती थी तो हम पटवारखाने जाते थे या तो तहसील और इसी में ही सारा समय बर्बाद हो जाता था. लेकिन अब इन सब समस्याओं का समाधान हर राज्य की सरकार ने अपने नागरिकों के लिए ऑनलाइन पोर्टल चलाकर कर दिया है जिससे निर्धन वर्ग की समस्या कम हुई है. हालांकि आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें ऑनलाइन वेबसाइट का लाभ उठाना या इस्तेमाल करना नहीं आता है.

आवश्यक जानकारी

  • यदि आप मृत्यु के 21 दिनों के अंदर मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपको कोई फीस नहीं देनो देनी होगी.
  • अगर मृत्यु के 21 दिनों के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपके 2 रूपये लगेंगे.
  • एक महीने बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो 5 रूपये देने होंगे.
  • अगर आप मृत्यु के एक वर्ष के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपको 10 रूपये का भुगतना करना होगा.

Gujarat Death Certificate Benefit

मृत्‍यु प्रमाण पत्र का उपयोग बहुत से सरकारी और गैर सरकारी कामों में किया जाता है जैसे कि ...
  1. जीवन बीमा लाभ, पेंशन का दावा के लिए
  2. विरासत का निपटान हेतू
  3. सम्‍पति दावों को निपटाने के लिए
  4. भूमि के नामान्‍तरण और सम्‍पति के उतराधिकारी के हेतू
  5. किसी कारण मृत्यु की परिस्थितियों में सबुत के तौर पर

जरुरी दस्तावेज

  • शपथ पत्र
  • मृतक का नाम, आयु (पुरुष / महिला)
  • मृतक के पिता / पति का नाम
  • राशन कार्ड, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र
  • मौत का स्थान, अस्पताल / घर (विवरण के साथ), मृत्यु तिथि
  • मृतक के साथ आवेदक का रिश्ता

Eligibility & Condition

  • Applicant का गुजरात का निवासी होना चाहिए.
  • हर मृत्यु की सूचना और निर्धारित रिपोर्टिंग 21 दिनों के भीतर दर्ज की जाएगी.
  • यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु घर के बाहर हुई है तो अस्पताल / स्वास्थ्य केंद्र, मातृत्व गृह या अन्य संस्थानों में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी या उनके द्वारा अधिकृत किसी भी अधिकारी द्वारा प्रमाणित.

Comments

Popular posts from this blog

दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी | * Delhi *

बिहार निवास/आवासीय प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी और प्रक्रिया