Posts

Showing posts from January, 2019

गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी | * Gujarat *

आज हम आपको गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ( Gujarat Death Certificate ) के बारे में बताने जा रहे हैं. भारतीय कानून के अनुसार कोई भी मृत्यु होने के 21 दिनों के भीतर संबंधित राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत्र में पंजीकरण करना अनिवार्य है. इसके लिए हर राज्य की सरकार ने केन्‍द्र में महापंजीयक, भारत के पास और राज्‍यों में मुख्‍य पंजीयकों के पास गांवों में जिला पंजीयकों द्वारा चलाने जाने वाले और नगरों के पंजीयक परिसर में मृत्‍यु का पंजीकरण करने के लिए सुपारिभाषित प्रणाली की व्‍यवस्‍था की है. क्या है गुजरात मृत्यु प्रमाण पत्र ? और क्या है इसकी उपयोगिता और लाभ ?

What is Gujarat Death Certificate ?

  1. मृत्‍यु प्रमाण पत्र एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है जिसे राज्य सरकार द्वारा मृत व्‍यक्ति के रिश्‍तेदारों को दिया जाता है, Death Certificate में व्यक्ति की मृत्‍यु का तारीक तथ्‍य और मृत्‍यु के कारण का विवरण होता है. मृत्‍यु का समय और तारीख का प्रमाण देने, व्‍यष्टि को सामाजिक, न्‍यायिक और सरकारी बाध्‍यताओं से मुक्‍त करने के लिए, मृत्‍यु के तथ्‍य को प्रमाणित करने के लिए सम्‍पत्ति संबंधी धरोहर के विवादों का निपटारा करने के लिए और परिवार को बीमा एवं कोई सरकारी लाभ जमा करने के लिए प्राधिकृत करने के लिए मृत्‍यु का पंजीकरण करना अनिवार्य है.
  2. पहले हमें इस प्रकार की कोई भी जानकारी लेनी होती थी तो हम पटवारखाने जाते थे या तो तहसील और इसी में ही सारा समय बर्बाद हो जाता था. लेकिन अब इन सब समस्याओं का समाधान हर राज्य की सरकार ने अपने नागरिकों के लिए ऑनलाइन पोर्टल चलाकर कर दिया है जिससे निर्धन वर्ग की समस्या कम हुई है. हालांकि आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें ऑनलाइन वेबसाइट का लाभ उठाना या इस्तेमाल करना नहीं आता है.

आवश्यक जानकारी

  • यदि आप मृत्यु के 21 दिनों के अंदर मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपको कोई फीस नहीं देनो देनी होगी.
  • अगर मृत्यु के 21 दिनों के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपके 2 रूपये लगेंगे.
  • एक महीने बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो 5 रूपये देने होंगे.
  • अगर आप मृत्यु के एक वर्ष के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपको 10 रूपये का भुगतना करना होगा.

Gujarat Death Certificate Benefit

मृत्‍यु प्रमाण पत्र का उपयोग बहुत से सरकारी और गैर सरकारी कामों में किया जाता है जैसे कि ...
  1. जीवन बीमा लाभ, पेंशन का दावा के लिए
  2. विरासत का निपटान हेतू
  3. सम्‍पति दावों को निपटाने के लिए
  4. भूमि के नामान्‍तरण और सम्‍पति के उतराधिकारी के हेतू
  5. किसी कारण मृत्यु की परिस्थितियों में सबुत के तौर पर

जरुरी दस्तावेज

  • शपथ पत्र
  • मृतक का नाम, आयु (पुरुष / महिला)
  • मृतक के पिता / पति का नाम
  • राशन कार्ड, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र
  • मौत का स्थान, अस्पताल / घर (विवरण के साथ), मृत्यु तिथि
  • मृतक के साथ आवेदक का रिश्ता

Eligibility & Condition

  • Applicant का गुजरात का निवासी होना चाहिए.
  • हर मृत्यु की सूचना और निर्धारित रिपोर्टिंग 21 दिनों के भीतर दर्ज की जाएगी.
  • यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु घर के बाहर हुई है तो अस्पताल / स्वास्थ्य केंद्र, मातृत्व गृह या अन्य संस्थानों में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी या उनके द्वारा अधिकृत किसी भी अधिकारी द्वारा प्रमाणित.

बिहार निवास/आवासीय प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी और प्रक्रिया

 आज हम आपको बतायेंगे कि बिहार निवास प्रमाण (Bihar Domicile Certificate ) पत्र कैसे बनवाया जाता है ? इसकी उपयोगिता ( Uses ) और लाभ (Benefit ) क्या है? साथ ही हम आपको ये भी बतायेंगे कि आवेदन की प्रक्रिया और आवेदन करने की पूरी विधि बतायेंगे. साथ ही आज हम आपको ये बतायेंगे कि आप निवास प्रमाण पत्र के लिए कैसे ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं ?

बिहार निवास प्रमाण पत्र क्या है ? ( What Is Domicile Certificate )

भारत के हर राज्य के नागरिक के पास उनका निवास प्रमाण पत्र Domicile Certificate होना बहुत जरूरी है. निवास प्रमाण पत्र किसी भी राज्य के नागरिक को उसके निवास स्थान का प्रमाण दर्शाता है. निवास प्रमाण पत्र एक सरकारी मानी डाक्यूमेंट्स है और ये राज्य सरकार द्वारा प्रमाणित है. इसे राज्य के राजस्व विभाग द्वारा जारी किया जाता है.  Domicile Certificate बोनाफाइड प्रमाण पत्र के नाम से भी जाना जाता है. साथ ही निवास प्रमाण पत्र ये भी सिद्ध करता है कि कोई व्यक्ति कितने सालों से किस राज्य में रह रहा है ?
निवास प्रमाण पत्र राज्य, जिला की सही पहचान बताता है कि कौन सा व्यक्ति कौन से स्थान का मूल निवासी है? पहले किसी भी प्रकार के Documents को बनवाने या जानकारी लेने के तहसील या नगर निगम कार्यालय जाना पड़ता था. हालांकि अब नागरिकों को कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि बिहार सरकार ने Government of Bihar की आधिकारिक वेबसाइट से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या किसी भी जानकारी को प्राप्त कर सकते हैं.

Bihar Domicile Certificate की आवश्यकता क्यों पड़ती है ?

निवास प्रमाण पत्र ये साबित करने के लिए जारी किया जाता है कि Bihar Domicile Certificate को बनवाने वाला व्यक्ति किस राज्य/संघ क्षेत्र का निवासी है जिसके द्वारा प्रमाण पत्र जारी किया जा रहा है. निवास प्रमाण पत्र की आवश्यकता निवास के प्रमाणप के रूप में होती है. Domicile Certificate की सबसे जरूरत निवास का प्रमाण देने, शिक्षण संस्थानों में रिहायशी कोटा प्राप्त करने और सरकारी नौकरी प्राप्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है. साथ ही जिस राज्य में किसी नौकरी के लिए वहीं के निवासियों की शर्त हो, तो उस स्थिति में Domicile Certificate जरूरी होता है. (For Admission in School Colleges, for Scholarship and Application in any Government Job)

Bihar Domicile Certificate के लिए पात्रता (Eligibility )

Bihar Domicile Certificate के लिए आपका बिहार का निवासी होना बहुत जरूरी है और आवेदक बिहार में कम से कम पिछले 3 सालों से रह रहा हो. यदि आवेदक की आयु 18 से नीचे है तो परिवार के किसी भी सदस्य के प्रमाण पत्र की नकल की जरूरत है. किसी भी महिलाओं का पति यदि प्रमाणपत्र रखता है तो वह भी आवेदन कर सकते हैं.

बिहार Domicile Certificate के लाभ ( Benefit )

  • Bihar निवास प्रमाण पत्र  की जरुरत स्कूल कॉलेज और अन्य शैक्षिक संस्थाओ में एडमिशन लेने के लिए पडती है.
  • Domicile Certificate सरकारी नौकरियो में स्थाई निवास के प्रमाण पत्र के रूप में प्रयोग होता है.
  • इस पत्र की मदद से राज्य सरकारों के द्वारा चलाई गई विभिन्न प्रकार की योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं.

Bihar निवास प्रमाण पत्र के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स (Documents)

  • जन्म प्रमाण पत्र ( Birth Certificate )
  • शपथ पत्र ( Affidavit )
  • Applicants के घर, घर या भूमि की संपत्ति का सबूत
  • मान्य पहचान सबूत ( Valid Identification Proof )
  • स्कूल सर्टिफिकेट ( School Certificate )
  • तहसील जांच रिपोर्ट ( Tehsil Inquiry report )
  • राशनकार्ड, आधार कार्ड की कॉपी या फिर मतदाता कार्ड ( Voter Card ) की फोटोकॉपी.
  • पटवारी, ग्राम पंचायत के प्रधान , विभाग के प्रमुख ( HOD ), नगरपालिका ( MC ) से सत्यापन प्रमाण पत्र ( Verification certificate ) की स्कैन की गई फोटोकॉपी.

दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन की जानकारी | * Delhi *

Delhi Death Certificate | Download Death Certificate Online Delhi | Death Certificate Delhi Status | Online Death Certificates | edistrict.delhigovt.nic.in | Check Status @https://edistrict.delhigovt.nic.in/ |
अगर आप दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र ( Delhi Death Certificate ) के लिए आवेदन करना चाहते है तो अब अप ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं. जिसकी पूरी विधि हम आपको बतायेंगे. इसके लिए आपको दिल्ली ई-डिस्ट्रिक्ट edistrict.delhigovt.nic.in की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा. हर राज्य की सरकार ने वहां के लोगों के लिए ऑनलाइन पोर्टल की सुविधा प्रदान की है. भारत के कानून के अधीन अगर कोई भी मृत्यु होने के 21 दिनों के भीतर संबंधित राज्‍य/संघ राज्‍य क्षेत्र में पंजीकरण करना अनिवार्य है.


सरकार ने केन्‍द्र में महापंजीयक, भारत के पास और राज्‍यों में मुख्‍य पंजीयकों के पास गांवों में जिला पंजीयकों द्वारा चलाने जाने वाले और नगरों के पंजीयक परिसर में मृत्‍यु का पंजीकरण करने के लिए ऑनलाइन वेबसाइट चलाई गयी है. इसी संबंध में हम आपको बतायेंगे कि दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र क्या है ? साथ ही ये भी बतायेंगे कि ऑनलाइन आवेदन कैसे किया जाता है, इसकी उपयोगिता और लाभ क्या है, आवेदन की प्रक्रिया और आवेदन की प्रक्रिया है?

दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र क्या है? ( What is Delhi Death Certificate )

Death Certificate कानूनी और महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है जिसे मृत व्‍यक्ति के रिश्‍तेदारों को दिया जाता है, जिसमें व्यक्ति की मृत्‍यु का तारीक तथ्‍य और मृत्‍यु के कारण का विवरण होता है. मृत्यु प्रमाण पत्र का उपयोग मृत्यु का समय और तारीख का प्रमाण देने, व्‍यष्टि को सामाजिक, न्‍यायिक और सरकारी बाध्‍यताओं से मुक्‍त करने के लिए, मृत्‍यु के तथ्‍य को प्रमाणित करने के लिए सम्‍पत्ति संबंधी धरोहर के विवादों का निपटारा करने के लिए और परिवार को बीमा एवं कोई सरकारी लाभ जमा करने के लिए प्राधिकृत करने के लिए मृत्‍यु का पंजीकरण करना बहुत जरूरी है.

Delhi Death Certificate के आवेदन के लिए आवश्यक जानकारी

  • मृत्यु की जानकारी 21 दिनों के अंदर देना अनिवार्य है. क्योंकि इन दिनों के अंदर आवेदन करने की कोई फीस नहीं लगेगी.
  • 21 दिनों के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते हैं तो  2 रूपये लगते हैं.
  • एक महीने बाद 5 रूपये और एक साल के बाद मृत्यु प्रमाण के लिए आवेदन करते है तो आपको 10 रूपये का भुगतना करना होगा.

Eligibility

  1. दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र का आवेदन करने के लिए आप दिल्ली के मूल निवासी होना जरूरी हैं.
  2. अगर आप दिल्ली के निवासी हो तभी आप Delhi Death Certificate के लिए आवेदन कर सकते हैं.
  3. साथ ही आवेदक का भारत में किसी भी सरकारी एजेंसी से जारी कोई जन्म प्रमाण पत्र नहीं होना चाहिए.

दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए जरुरी दस्तावेज

  • शपथ पत्र
  • आवेदक का पहचान पत्र
  • राशन कार्ड, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र
  • आधार कार्ड और निवास प्रमाण पत्र

Delhi Death Certificate Benefit

  1. भूमि के नामान्‍तरण हेतू
  2. पेंशन योजना के आवेदन हेतु
  3. एलआईसी धनराशी लेने हेतु
  4. बीमा के पैसे लेने हेतु
  5. सम्‍पति दावों को निपटाने के लिए
  6. अन्य सरकारी योजना के आवेदन हेतु

दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ? Online Application Procedure

  • सबसे पहले आवेदक को दिल्ली इ-डिस्ट्रिक्ट की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
edistrict.delhigovt.nic.in


  • अब अगर आप रजिस्टर्ड यूजर है तो आपको Registered Users Login पर क्लिक करें.
  • यहाँ अपना आईडी पासवर्ड डालें, फिर Type the code shown में दिया गया कोड भरें और लॉग इन पर क्लिक करें.

  • लेकिन अगर आप रजिस्टर्ड यूजर नहीं है तो New User पर क्लिक करें.

  • यहाँ आपको अपनी आईडी बनानी होगी, इसके बाद ही आप दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

Online Tracking & Verification

  • सबसे पहले आवेदक को दिल्ली इ-डिस्ट्रिक्ट की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा.
edistrict.delhigovt.nic.in


  • अगर आप दिल्ली मृत्यु प्रमाण पत्र के आवेदन पत्र की स्थिति की जाँच का पता करना चाहते हैं तो आपको Track your Application पर क्लिक करें.

  • इसके बाद यदि आप ऑनलाइन सत्यापन करना चाहते है तो आपको Verify your Certificate पर क्लिक करें.

  • यहाँ आपसे पूछी गई हर जानकारी डाली. इस तरह आप अपने आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं और सत्यापन भी कर सकते हैं.

Important Links

Official Website
Track Application status
Source
Verify your Certificate